Header Ads

क्यों खास हैं कुछ लोग?

important people vradhgram
‘‘ऐसा क्यों होता है कि हम किसी इंसान की इतनी कद्र करते हैं। उसके लिए इतनी जगह अपने हृदय में कहां से ले आते हैं कि वह हमारे लिए प्रेरणा बन जाए। क्यों हम उनके दुखी होने पर खुद भी आंसू बहाते हैं? क्यों कुछ लोग इतने खास हो जाते हैं?’’ मैंने काकी से पूछा।

इसपर बूढ़ी काकी की आंखें भर आयीं। वह बोली,‘‘हां, खास होते हैं कुछ लोग। सच में जीवन बदल देते हैं हमारा वे। हमारी सूखी जिन्दगी में हरियाली भर खुशियों से दामन भर देते हैं कुछ लोग। बिना कहे भी बहुत कुछ कह जाते हैं। शायद जीवन को हमसे बेहतर जानते हैं वे।’’

‘‘चुप रहकर कितनी बातें कर जाते हैं जिनका असर हृदय में समा जाता है। तुम जानते हो कि संसार में भगवान ने ऐसे लोगों को इसलिए भेजा है ताकि वे किसी का सहारा बन सकें, संभाल सकें उन्हें जो व्यथा के मारे हैं। हम जाने-अनजाने उनसे इतना कुछ कह जाते हैं और ऐसा करने से हमें सुकून भी मिलता है।’’

‘‘जब इंसान दुखी होता है वह उन्हें याद करता है जो उसकी व्यथा कम कर सके। भगवान के अलावा भी कोई ऐसा हर किसी के जीवन में होता है जिसका दर्जा भगवान की तरह है। शायद इसलिए वह इंसान आम होकर भी खास होता है। उसमें ऐसा कुछ होता है जो उसे खास बनाता है। हम जानते हैं कि उसने हमें बदला है। हम जानते हैं कि यह तभी संभव हो सका जब वह हमारी जिन्दगी में आया। वह अहसास अविस्मरणीय रहेगा जब हमने स्वयं को बदलते हुए पाया। तमाम जिन्दगी हम उसके शुक्रगुजार रहेंगे क्योंकि एक वह ही तो है जिसकी वजह से हमने दुनिया को अलग नजर से देखा। वास्तव में उसने ही हमें दुनिया को देखना सिखाया, जैसा उसने देखा, वैसा हमने भी। यानि उसके नजरिये से हमने जीवन जीना सीखा- एक नये तरीके से, जिसमें खुशियां हैं और जीने की चाह भी।’’

‘‘इंसान चेहरों से नहीं उनके कामों से जाने जाते हैं। चेहरे भीड़ में हज़ारों मिल जायेंगे और गुम भी हो जायेंगे, लेकिन अच्छा इंसान मिलना मुश्किल है।’’

बूढ़ी काकी ने आगे कहा,‘‘कभी-कभी किसी का कहा कोई शब्द या वाक्य इतना सुन्दर लग जाता है कि हम खुद को उनके प्रभाव में आने से रोक नहीं पाते। हम एक रो में बहते जाते हैं। यही खास इंसानों की खास बात होती है या यों कहें उनकी खासियत है।’’

‘‘हम पाते हैं कि एक जुड़ाव-सा हो गया। हम पाते हैं जैसे हमें किसी ने खींच लिया। यह अनुभूति सुखद है। कुछ पलों में जिन्दगी अपने मायने बदलने को राज़ी हो जाती है। इसी वजह से खास नहीं, बहुत खास होते हैं कुछ लोग।’’

-Harminder Singh


पिछली रचनायें पढ़ें





1 comment:

  1. ‘‘हम पाते हैं कि एक जुड़ाव-सा हो गया। हम पाते हैं जैसे हमें किसी ने खींच लिया। यह अनुभूति सुखद है। कुछ पलों में जिन्दगी अपने मायने बदलने को राज़ी हो जाती है। इसी वजह से खास नहीं, बहुत खास होते हैं कुछ लोग।’’
    सार्थक एवं सारगर्भित प्रस्तुति .... आभार

    ReplyDelete