Header Ads

खुश हूं मैं, नहीं चाहिए खुशी

happy and gladness


जीवन की आपाधापी...
शोर-शराबा,
मैं हूं अकेला...
बिल्कुल तन्हा,
नहीं चाहिए कोई...
हाल जो है मेरा,
खुश हूं मैं यहीं...
नहीं चाहिए खुशी।

गीत पुराने हो चले...
सुर गड़बड़ा रहे,
सुधबुध खोता मैं...
चल रहा अकेला,
बुझ रही लौ...
मद्धिम पार कहीं,
खुश हूं मैं यहीं...
नहीं चाहिए खुशी।

-हरमिन्दर सिंह चाहल.
(फेसबुक और ट्विटर पर वृद्धग्राम से जुड़ें)
हमें मेल करें इस पते : gajrola@gmail.com


पिछली कवितायें पढ़ें :
सर्कस -बाल कविता
प्रेम की दिव्य ज्योत जलने लगी
बुढ़ापा -एक कविता
जीवन ऐसा क्या जीना
जिंदगी

वृद्धग्राम की पोस्ट प्रतिदिन अपने इ.मेल में प्राप्त करें..
Enter your email address:


Delivered by FeedBurner




No comments