Header Ads

दोस्ती

my friend


एक दोस्त था कभी जो अब रूठा है। उसे मनाने की सोची लेकिन बात नहीं बनी।

वह भी मेरी तरह ही निकला। कहता नही छिपाता है।

दूसरा दोस्त भी चला गया। मालूम था मुझे कि वह कुछ दिन का मेहमान है, लेकिन मैं उससे पक्की दोस्ती कर बैठा। अब भूल नहीं पा रहा।

क्या करूं..कुछ समझ नहीं आ रहा।

दो लोग आज छूट गये मुझसे ....शायद हमेशा के लिये।

...लेकिन मैंने उनके नाम का एक पौधा लगा दिया जो मुझे हमेशा उनके करीब रखेगा।

वे दोस्ती निभा न सके....मैं निभाऊंगा।

-हरमिन्दर सिंह चाहल
(फेसबुक और ट्विटर पर वृद्धग्राम से जुड़ें)
हमें मेल करें इस पते : gajrola@gmail.com


रिश्ते नाते के सभी लेख पढ़ें :
क्या करें जो दिल न टूटे?
भाई,बहन और रक्षाबंधन
जिंदगी की राखी बांध बहन ने कहा अलविदा भैया
अपनों का प्यार
मेरा दोस्त
सच में कमाल के होते हैं रिश्ते
   
वृद्धग्राम की पोस्ट प्रतिदिन अपने इ.मेल में प्राप्त करें..
Enter your email address:


Delivered by FeedBurner




No comments