Header Ads

बुजुर्गों की उदास कहानी

old man_aged_man



उन बुजुर्ग को देखकर मुझे ऐसा लगा जैसे वे काफी उदास हैं। उनका चेहरा लगभग सारी कहानी बयान कर रहा था। वे सड़क किनारे एक पेड़ से कमर सटाये किसी गहन सोच में डूबे हुए थे। मैं पैदल वहां से गुजर रहा था। मेरी निगाह उनपर ही थी। करीब जाने पर मैं रुक गया।

बुजुर्ग उसी अवस्था में थे। मैं खड़ा रहा। उन्हें मालूम नहीं चला कि मैं उनके पास खड़ा हूं। उन्होंने दो-तीन शब्द बुदबुदाये। मैं थोड़ा असमंजस में था। आखिर मैंने झुककर उनके कंधे पर हाथ रखकर पूछा कि बाबा यहां कैसे बैठे हो। ऐसा लगा जैसे उनकी झपकी टूटी हो या वे नींद से जागे हों।

उन्होंने मेरी ओर अपनी बूढ़ी आंखों से देखा, फिर उसी अवस्था में बैठ गये। मुझे बहुत हैरानी हुई। मैं उनके पास बैठ गया। मैंने फिर पूछा -‘आप यहां ऐसे क्यों बैठे हो?’

बुजुर्ग की आंखें भर आयीं। वे बोले -‘घर जाकर क्या करुंगा। परिवार में बंटवारा चल रहा है। पंचायत लगी है। मेरी कोई सुनता नहीं।’

फिर क्या था, उन्होंने अपनी दर्द भरी कहानी भीगी आंखों के साथ बयान की। मैं भी भावुक हो गया।

यह दशा एक वृद्ध की नहीं है। गांवों में स्थिति चिंताजनक है। परिवार में बंटवारा होता है तो बुजुर्गों को उससे अलग रखा जाता है। जिंदगी भर वे जमीन जोतते हैं। कमाते हैं, परिवार को जोड़कर रखते हैं, रहने को आसरा बनाते हैं। जब वे बूढ़े हो जाते हैं तो उन्हें उनके अपने बेघर करने की कोशिश में लग जाते हैं। दो रोटी के लिए वे मारे-मारे फिरते हैं। यह बेहद दयनीय स्थिति है।

मैंने देखा है कि वृद्ध कमजोर काया के साथ भी मौसम का लिहाज किये बिना अपने खेतों में मजदूरों की तरह काम करते हैं। फिर जल्द चारपाई पकड़ लेते हैं और जिंदगी को अलविदा कह जाते हैं। यह एक उदास कहानी की तरह होता है जो आखिरी पलों में कराहट और दर्द के साथ समाप्त होती है।

-हरमिन्दर सिंह चाहल.
(फेसबुक और ट्विटर पर मुझसे जुड़ें)
हमें मेल करें इस पते : gajrola@gmail.com


इन्हें भी पढ़ें :
उम्र को जीतने का तरीका 
बुढ़ापे को सलीके से जीने का आनंद
खेत की मेढ पर बैठा बूढ़ा
बूढ़ा आदमी
बुढ़ापे में इस तरह कीजिये जिन्दगी का सदुपयोग (listen podcast) 

वृद्धग्राम की पोस्ट प्रतिदिन अपने इ.मेल में प्राप्त करें..
Enter your email address:


Delivered by FeedBurner

No comments