किसी को बदनाम न कर



kisi-ko-badnam-na-kar

मैं कहता हूं कि तू ये काम न कर,
खुद के खातिर किसी को बदनाम न कर।

साकिर बनकर जी ज़माने में गाफिल,
खुद के खातिर किसी को गुलाम न कर।

ता-उमर उसी में खो जायेगा तू,
किसी जुल्फ के साये में आराम न कर।

न ले रिस्क का लुत्फ राही आगे बढ़,
इश्क के मोड़ पे वक्त नाकाम न कर।

‘अमर’ अब आबरु का अदब करना सीख,
शर्म के शब्द को यूं सरेआम न कर।

-अमर सिंह 'गजरौलवी'

अमर सिंह 'गजरौलवी' की सभी पोस्ट पढ़ें

पिछली पोस्ट पढ़ें :
विचार
उम्र
अक्सर वही माहौल दोबारा दिखाई देता है
परिंदा
लोग

No comments