Header Ads

उम्रदराजी है तो क्या हुआ?

उम्र बीत रही है धीरे-धीरे. जिंदगी से आस है जाने कितनी, और मुसाफ़िर भी अभी थका नहीं.
उम्रदराजी है तो क्या हुआ?

ख़ामोशी से जीवन के पड़ाव पार कर गया,
उतरता हुआ, लहरों की परतों को छूते हुए,
उम्रदराजी है तो क्या हुआ?
जिंदगी अब भी वैसे ही सांस ले रही है.

उगते सूरज की पहली किरण का एहसास,
कुछ कम नहीं, कुछ ज्यादा नहीं हुआ,
वही मैं, वही मेरी चाहतों का बसेरा,
टूटते हुए पलों की बात मौज ले रही है.

कांपते हुए हाथों की गहरायी इतराती हुई,
सुकून से जीने की चाह मरी नहीं,
सुस्त, पैदल इरादों की दबिश में कहीं,
उम्मीदों की गठरी हिलौरें ले रही है.

खुशबू ऐसी कि खोने का मन ही है,
हर बार सहारे की जरुरत हुई है,
दूर देखता हूं, धुंधला है जायका भी,
क्या कसूर मेरा, जिंदगी बदला ले रही है.

-हरमिंदर सिंह.

वृद्धग्राम  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर भी ज्वाइन कर सकते हैं ...

No comments