जिंदगी की आस में जिंदगी कट रही

कहानियां ज़िन्दगी से शुरू होकर ज़िन्दगी पर ख़त्म होती हैं.
old_age_man

खुशी के तारों की छांव में जिंदगी दो पल बदल रही,
हवाओं की तरह मचलते हुए सितार सी बह रही,

शांत, हिलौरे मारती हुई भी,
उम्र की दास्तान जो सच है,

अपने में सिमटी हुई और मुस्कान से भर रही,
झुर्रियों का रौब नहीं, बेहिचक बढ़ रही,

सुनहरी यादों को पुकार कर,
मीठी बोली बोलकर,

उतर रही कोई अनोखी वजह भर रही,
आसमान से डोली सजी निकल रही,

कसक बाकी, मन चुभ रहा,
बूढ़ी आंखों से देख कर,

उम्रदराजों की भावना की गठरी पिघल रही,
जिंदगी की आस में जिंदगी कट रही।

-हरमिंदर सिंह.

वृद्धग्राम  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या ट्विटर  पर फोलो करें. आप हमें गूगल प्लस  पर भी ज्वाइन कर सकते हैं ...

12 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज्योति जी बहुत बहुत आभार..

      Delete
  2. सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ... यूँ ही जिंदगी कटे तो जीना सफल है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया दिगंबर जी.

      Delete
  4. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन जन्म दिवस : सुनील दत्त और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया हर्षवर्धन जी..

      Delete
  5. Replies
    1. शुक्रिया सुमन जी.

      Delete
  6. सुनहरी यादों को पुकार कर,
    मीठी बोली बोलकर,

    उतर रही कोई अनोखी वजह भर रही,
    आसमान से डोली सजी निकल रही,
    वाह्ह ! आदरणीय ,बहुत ख़ूब! सुन्दर अभिव्यक्ति, सत्य को उजागर करती आभार। "एकलव्य"

    ReplyDelete
    Replies
    1. ध्रुव जी, आपका हृदय से आभार.

      Delete
  7. It's really a great and useful piece of Poem. I recently came across your blog and thank you for sharing.
    life is very complicated.
    you find the ans
    life change the qus.
    Also Read here: BHU UET Result 2019

    ReplyDelete