Header Ads

चेतन भगत की किताब और मखौल

चेतन भगत की नई किताब ‘हाफ गर्लफ्रेंड’ को लेकर सोशल मीडिया पर चुटकी ली जा रही है। चुटकी ऐसी कि उसपर हंसी भी आ रही है और उन लोगों पर दया भी जो ऐसा कर रहे हैं। जबकि कई लोगों का दावा है कि ऐसा किताब के शीर्षक की वजह से किया जा रहा है। यह पहली बार हुआ है कि चेतन भगत का इतना मखौल उड़ा है। यह समझ से परे है कि शीर्षक को लेकर लोग इतने बेचैन और हड़बड़ाये हुए क्यों हैं? क्या उन्हें ऐसे शीर्षक पर आपत्ति है? क्या वे देखा देखी ऐसा कर रहे हैं?

जो भी हो रहा है उससे मेरे मुताबिक चेतन की किताब को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। ऐसे ‘मखौली’ लोग बिना मतलब के दूसरों का फायदा करा देते हैं जबकि ऐसा करने में वे अपना समय ही जाया करते हैं। अकेला समय नहीं, दिमाग और पैसा बर्बाद कर रहे हैं।

चेतन की किताबों का एक पूरा सैट मेरे एक मित्र के पास है। उसने हिन्दी में अनुवादित किताबें मंगवायी हैं। चेतन की पहली पुस्तक फाइव प्वाइंट समवन से लेकर रिवोल्यूशन 2020 तक को उसने बहुत संभाल कर रखा हुआ है। मुझे मालूम नहीं कि वह कितनी किताबों को पढ़ पाया लेकिन उसका चेतन प्रेम अनूठा है। वह किताबें पढ़ने का शौकीन नहीं था बाद में हुआ, मैं पहले भी था और अब भी हूं। मैंने किताबों का जखीरा अपनी अलमारियों में सजाया है। मैंने उसे अलकामिस्ट का हिन्दी संस्करण दिया जिसके बाद उसने किताबों का शौक जाग्रत किया। उसकी तमन्ना हैरी पोर्टर के सभी हिन्दी संस्करण पढ़ने की भी है। चेतन की किताबों से उसने काफी ज्ञान प्राप्त किया होगा। मेरे पड़ोसी का बेटा जो अब एनडीए में पढ़ाई कर रहा है ने मुझे चेतन भगत की दो पुस्तकें लाकर दीं। मैं उन्हें किसी कारण पूरा नहीं पढ़ पाया। इतना जरुर कह सकता हूं कि जब एक अध्याय से शुरुआत की तो दूसरा खत्म करे बिना रहा नहीं गया। कमाल यह था कि दोनों उपन्यासों को पढ़ा यह देखने के लिए कि दूसरे में क्या खास है।

भगत की शैली और भाषा मुझे अच्छी लगी। जिस ढंग से वे बात को कहते हैं वह पाठकों को उनके पात्रों से दूर नहीं जाने देता। सबसे बड़ी बात कि आप बोर नहीं होते। जिस लेखक को पढ़कर आप बोर नहीं हो रहे समझिये वह आपको जानता है। उसकी पकड़ पाठकों तक है। वह पाठकों की नस को समझता है। यही तो होना चाहिए। बिना जाने और समझे आप लेखक नहीं बन सकते।

उनकी नई किताब अभी आयी नहीं है। किताब अक्टूबर में आयेगी। इतना जरुर है कि चेतन को पब्लिसिटी खूब मिल रही है। हर लेखक चाहता है कि उसका प्रचार हो। सकारात्मकता और नकारामत्कता दोनों साथ चलती हैं। लेकिन जब आलोचना होती है तो लेखक को भी बुरा लगता है। आखिर वह भी इंसान है। यह कहना गलत नहीं कि चेतन भगत को इससे नुकसान नहीं, मगर एक इंसान होने के नाते उन्हें यह चुभ भी रहा है।

सोशल मीडिया पर लोग अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। इनमें ऐसे लोग अधिक हैं जो काम ही यह करते हैं। मेरा कहना है कि चेतन को ऐसे लोगों पर भी एक कहानी तैयार करनी चाहिए क्योंकि मसाला यह भी मजेदार है।

-हरमिन्दर सिंह चाहल.


Chetan Bhagat's new novel : Half Girlfriend
 For more info visit


इन्हें भी पढ़ें :

No comments