Header Ads

बुढ़ापा सामने खड़ा है

















मैं खड़ा रहा शांत,
कमर झुकाए,
सहारा लाठी का लिए,
मेरी तरह कमजोर,
पर मैं मूक नहीं,
कहता हूं जरुर,
सुनने वाला कौन भला,
मूक बनना पड़ा,
विवशता और लाचारी,
मुझसे कह रही-
‘नियति है यह,
बुढ़ापा सामने खड़ा है,
इसे अपना लो।’

-Harminder Singh

No comments