Header Ads

जीवन और मरण




















तन्हाई
में जीना है
और मर जाना है।
जीवन-मरण का
यह खेल पुराना है।

.....................................
....................................
...................................

मृत्यु की हंसी,
यम का बुलावा है।
किया जो, हुआ जो,
क्यों पछतावा है।

.....................................
....................................
....................................

कराह उठता हूं,
कुंठित मन मेरा है।
दुख की नैया पर,
काले मेघों का घेरा है।

-Harminder Singh





Previous Posts :

No comments