विदाई बड़ी दुखदायी

bidai..















पिता की आंखें भर आयीं,
रीत है कैसी आयी,
डोली उठ रही बेटी की,
मां भी आंसू में नहायी,
.........................................
विदाई बड़ी दुखदायी......

जी भर रोने दो,
बेटी है मेरी,
तू रहे सदा खुश,
किस्मत है तेरी,
पल-पल निहारे भाई,
मुन्नी हुई पराई,
.........................................
विदाई बड़ी दुखदायी......

यादों में सिमटेगी,
मिलन घड़ी है आयी,
पिया घर जा रही,
जोड़ी राम ने बनायी,
याद बाबुल अंगना की,
लाल चुनर उढाई,
.........................................
विदाई बड़ी दुखदायी......

-Harminder Singh




Previous Posts :

No comments