Header Ads

जीवन के रंग


पल जीवन के रंगों से भरे,
चटख, महकते फूलों के रंग,
मन हर्षाते, इतराते हुए,
जिंदगी की पींग बढ़ाते,
भरोसे से जीते रंग,
होली खेलते हम-तुम,
मुस्कराते रंगों के बीच,
खुशी सुनहरी, लाली लिये प्रेम की,
अधरों से कहते, स्पर्श करता तरंग,
जीवन के अनोखे रंग,
जीवन में घुलमिलते रंग,
सपनों की तरह,
उगते-बुझते, हंसते,
अपने आकार में बहते रंग,
हां,
ऐसे हैं जीवन के रंग।

-हरमिन्दर सिंह चाहल.

No comments