टूटी बिखरी यादें

टूटी बिखरी यादें भला जुड़ कैसी सकती हैं। यादें तो मोतियों की माला की तरह टूटकर बिखर गयी हैं। वक्त की कमी है, फिर भी समेट रहा हूं। मैं हताश हूं, लेकिन खुद को ऐसा होने से रोक रहा हूं। मैं इतना जानता हूं कि चलना मुझे है नहीं, रुककर क्या करुंगा, फिर भी चले जा रहा हूं। उस रास्ते रुककर नहीं देखा जहां मैं कभी ठिठोली करता था। वहा गली नहीं चला जहां उम्मीदों को पर लगे।

अपनापन तब था, अब अपने में बसा हूं। यहां सुबह ठंडी नहीं, नम नहीं, मगर उजाला तो है ही, बिना किसी काम का। मेरा मतलब न उजाले से रहा, न अंधेरे से। यादों को मिटाने की मुहिम छिड़ चुकी है। पता नहीं क्यों उलझ कर रहा गया हूं। वाकई उलझ गया हूं मैं। बीती बातें किनारे करने की अनंत कोशिशें की हैं। कुछ हासिल न हो सका। चिपकी हैं यादें। धुंधली पड़कर भी मेरे साथ खड़ी हैं यादें। भुलाये नहीं भूलती यादें। जी करता है माला को तोड़कर फेंक दूं। एक-एक कर बिखर जायेंगी यादें, लेकिन माला बिना मोतियों की है। जीवित हैं यादें और पुरानी होकर भी नयी हैं।

इकट्ठा करता-करता थकान महसूस हो रही है। बूढ़ी हड्डियां थक बड़ी जल्दी जाती हैं। वक्त को तेजी से बढ़ता हुआ देख भी भय लगता है। बहुत बदलाव है, नयापन छूट गया। पुराने पन्ने उड़ने को बेताब हैं। उन्हें सिमेटना मुश्किल है, जिल्द में जोड़ना मुश्किल है।

यादों की खुशबू बिखर गयी इधर-उधर, सब जगह। लेकिन महक आ रही है पुराने पलों से, मीठी-मीठी। खट्टे पल हैं, मीठे हैं और कड़वे भी। यहां चमक है, भीड़ है, उनमें मैं भी हूं।

तब जल्दी थी, होड़ भी। तेजी भी आगे बढ़ने की। होड़ कभी न खत्म होने वाली। बहुत आगे निकल गया। लालसा चंचल थी और चंचलता अठखेली जरुर करती है। शिखर को छूकर भी बहुत कुछ बाकी समझ रहा था। अचानक सच्चाई से सामना हुआ। झुठलाने की कोशिश की, नहीं झुठला सका। फिर अकेला हो गया एकदम अकेला। अब केवल मैं था और आज भी मैं ही हूं।

वे पल अनमोल थे लेकिन बिना मोल के। इक सपना था जो पीछे छूट गया जाने कब का। मलबे का ढेर पुराना हो गया। एक दिन साफ हो जायेगा। फिर कोई अनजाना मुसाफिर इमारत खड़ी करेगा और सिलसिला चलता रहेगा।

-by harminder singh

No comments